उंगली की लंबाई बता देगी आपके जीने की उम्र …….. जानिए कैसे

यह सत्य है कि हर व्यक्त‌ि अपने जन्म के साथ साथ अपनी मौत की तरीक भी लिखवा कर लाता है। हर मनुष्य जो भी धरती पर जन्म लेता है उसकी मौत भी अवश्य लिखी होती है। हर मनुष्य के जीवन के बारे में लिखा होता है कि वह कितने साल जियेगा और कब तक जियेगा। इस तरह के सवाल हमेशा हर व्यक्ति को परेशान करते है नाजाने वह कब तक जियेगा और पता नहीं कब उसकी मौत हो जायेगी। हर मनुष्य यही सोचता है की उसकी उम्र लम्बी हो और वह ज्यादा से ज्यादा समय तक जीवित रहे। लेकिन हम यह नहीं जानते की हमारे जीवन के साथ ही हमारी मौत की तरीक भी लिखी जाती है। और जितनी तरीक लिखी जाती है मनुष्य का जीवन उतने ही समय तक तय होता है। हम आपको बता दे की इन सवालों के जबाब शास्त्रों में बताया गया है कि कोण कितने समय तक जियेगा और कब उसकी मृत्यु हो जायेगी। आप अपनी उंगली की लंबाई से भी अपनी आयु के बारे में जान सकते है।

भविष्य पुराण के अनुसार अपनी उंगलियों से जो व्यक्ति एक सौ आठ यानी चार हाथ बारह उंगली का होता है वह उम्र के मामले में भग्याशाली होता है यानी दीघायु होता है। ऐसा व्यक्ति लंबे समय तक पृथ्वी का भोग प्राप्त करके यहां से विदा होता है।

जिन व्यक्तियों का शरीर उंगली से नापने पर सौ उंगली होता है। वह मध्यम आयु वाले और मध्यम जीवन जीने वाले होते हैं।नब्बे और इससे कम उंगली का होना आयु के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। ऐसा व्यक्ति औसत जीवन जीता है।

समुद्रशास्त्र के अनुसार हाथों की लकीरों के अलावा माथे की लकीरों से भी आयु का ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है। इस शास्त्र के अनुसार माथे की चार लकीरें जो एक ओर से दूसरी ओर कनपटी को छूती हो वह उम्र के ल‌िहाज से उत्तम होती हैं। ऐसा व्यक्ति दीर्घायु होता है, प्राचीन काल में लोगों की आयु अधिक होती थी इसलिए उस समय इस तरह की मस्तिष्क रेखा वालों को शतायु कहा जाता था यानी सौ साल जीने वाला।

Leave a Reply

Top